वैलेंटाइन डे स्पेशल-

#अनबन हो तो कभी भी संवादहीनता का इस्तेमाल न करें

#एक अच्छे श्रोता बनने का प्रयास करते रहें

#किसी भी बात को मन में न रखें चाहे बात सेक्स की ही क्यों न हो

#बहस जीतने के चक्कर में हम रिश्ते हारते जाते हैं

#पति पत्नी का रिश्ता निभाना समर्पण, उतार चढ़ाव से भरा हुआ है लेकिन तन्मयता से लगे रहें जीवन का मज़ा उसी में हैं।

#दूसरे कपल्स की ऑनलाइन गतिविधियों को देखकर कुंठित,हताश एवं निराश न हों,हर जोड़े की केमिस्ट्री #unique# होती है,आपको अपने लिए जीना है ।

#अपने प्यार के सम्बंध को वास्तविकता से परे महिमामंडित न करें क्योंकि कठिन समय में कष्ट की तीव्रता भी उसी अनुपात में होगी

#अधिकांशतः रिश्तों में अलगाव के पीछे पर्सनालिटी डिसऑर्डर,ओसीडी,सेक्सुअल डिस्फंक्शन उत्तरदायी होते हैं।

नोट::#आदर्श संबंध सिर्फ़ निर्जीव से ही संभव है.इसे हमेशा याद रखें।

डॉ सत्यकांत त्रिवेदी
कंसलटेंट साइकेट्रिस्ट भोपाल


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *